अगर आपको भी पेशाब रोकने की है आदत तो हो जाइए सावधान, कहीं बन ना जाए इस खतरनाक बीमारी का शिकार

कभी– कभी कुछ इमेरजेंसी के चलते हमें हमारे मूत्र को काफ़ी देर रोकना पड़ जाता है और लम्बे समय तक यह करना आपके स्वास्थ्य के लिएहानिकारक हो सकता है जी हां, मूत्र को बहुत देर तक रोके रखने से आपके मूत्राशय को गंभीर नुकसान हो सकता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकिपेशाब को ज्यादा देर तक रोके रखने से ब्लैडर की मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं।

तो आइए जानते है मूत्र को काफ़ी देर रोके रखने के स्वास्थ्यपर बुरे प्रभाव–मूत्राशय कमजोर 

यह समझना महत्वपूर्ण है कि यदि आप नियमित रूप से पेशाब नहीं कर रहे हैं, तो आपका मूत्राशय कमजोर होना शुरू हो जाता है।

  • यूटीआई (यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन)

यदि आपने नियमित रूप से पेशाब को रोकने की आदत बना ली है, तो इससे मूत्र पथ में संक्रमण हो सकता है। यदि आप पर्याप्त पानी नहीं पीतेहैं तो आपको यूटीआई होने का खतरा भी अधिक होता है।

यूटीआई के लक्षण : 

  • जब आप पेशाब करते हैं तो तेज जलन होती है
  • बिना रंग का पेशाब या खून वाला पेशाब
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • बदबूदार पेशाब
  • मूत्राशय का खिंचाव

जब आप लंबे समय तक अपने पेशाब को रोके रखते हैं, तो इससे आपके मूत्राशय में खिंचाव हो सकता है। तो आपको पेशाब करने में कठिनाईहो सकती है।

  • आपको कितनी बार पेशाब करना चाहिए?

वास्तव में हर व्यक्ति की मूत्र करने की आदत अलग–अलग होती है। एक स्वस्थ व्यक्ति वास्तव में दिन में लगभग चार से दस बार पेशाब करता है, औसत एक दिन में छह से आठ बार होता है।

  • मूत्राशय में कितना पेशाब रोक सकते हैं? 

एक स्‍वस्‍थ व्‍यक्‍ति मूत्राशय में 2 कप मात्रा पेशाब की रोक सकता है। 2 साल तक की उम्र के बच्‍चों के मूत्राशय की क्षमता 4 औंस तक होती हैऔर उम्र बढ़ते ही यह 10 औंस हो जाती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.