शाह परिवार के इस फैसले से अनुपमा हुई शॉक्ड, अनुज ने किया समर्थ

टीवी का सीरियल अनुपमा में अब अनु काव्या से कहती है कि वह अनुपमा को नहीं छोड़ेगी। पाखी अनु और अनुपमा को जाने के लिए कहती है। अनु पाखी से कहती है कि घर उसका भी है। पाखी अनु को अपना मुंह बंद करने के लिए कहती है।

पाखी पर अनुपमा, काव्या और किंजल को गुस्सा आता है। पाखी कहती है कि समर की गैरमौजूदगी में वह भूल गई कि अनुपमा के और भी समर्थक हैं। वह किंजल के साथ भी बदसलूकी करती है। वनराज ने पाखी से अच्छा व्यवहार करने को कहा।

अनुपमा अनु को जाकर खेलने के लिए कहती है। वह हसमुक की मदद चाहती थी। अनु पाखी से कहती है कि अनाथालय में उन्हें कभी भी मां का अनादर नहीं करना सिखाया जाता था।

पाखी चिढ़ जाती है। वह अनुपमा के साथ दुर्व्यवहार करती है। अनुज सोचता है कि अनुपमा बहुत पीड़ित है। वह अनुपमा के लिए कुछ करने का फैसला करता है। पाखी कहती है कि अगर वह ज्यादा कहेगी तो अनुपमा आंसू बहाएगी।

वह लीला का भी अपमान करती है। काव्या को उम्मीद थी कि वनराज पाखी को रोक देगा। वनराज ने पाखी से व्यवहार करने को कहा। पाखी अनुपमा से अच्छा बनने का नाटक करना बंद करने के लिए कहती है। काव्या ने वनराज को फिर इशारा किया। वनराज ने पाखी को रुकने के लिए कहा।

अनुपमा शाह से कहती है कि वह बीच में न आए क्योंकि आज वह पाखी को सुनना चाहती है। वह पाखी को बोलने के लिए कहती है। पाखी अनुपमा से कहती है कि सत्ता और प्यार पाकर वह पागल हो गई है। वह अनुपमा पर घर तोड़ने का आरोप लगाती है।

अनुपमा पाखी से कहती है कि वह उसे इतनी चोट न पहुंचाए। पाखी अनुपमा पर अपना गुस्सा निकालती है। अनुपमा कहती है कि पाखी जैसे बच्चे मां को सिर्फ लाचार समझते हैं। पाखी अनुपमा को सुनाती है और कहती है कि वह हमेशा घर के अन्य सदस्यों के बीच मतभेद लाती है।

राखी ने पाखी की तरफदारी करते हुए कहा कि उसका स्वर तेज है लेकिन वह जो बोल रही है वह सही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.