मरने के 15 मिनट बाद शरीर में होते हैं ये बदलाव, ये होता है सबसे पहला परिवर्तन

मरने के बाद हमारे शरीर के साथ क्या होता है, ये दुनिया के सबसे रोचक सवालों में से एक है। जिसे जीवन मिला है उसकी मौत भी निश्चित है।लेकिन मौत के बाद क्या होता है, इस सवाल का जवाब आज हम आपको बताएंगे।

ये होता है सबसे पहला परिवर्तन

मृत्यु के बाद शरीर में जो सबसे पहला परिवर्तन होता है वो 15 से 30 मिनट के बाद दिखता है। शरीर के कुछ हिस्सों का रंग धीरे-धीरे बदलने लगता है।

हमारे शरीर का एक हिस्सा बैंगनी-लाल या नीला-बैंगनी हो जाता है, क्योंकि गुरुत्वाकर्षण के कारण हमारे शरीर के सबसे निचले हिस्से में रक्त जम जाता है।

कुछ हिस्से पीले पड़ जाते हैं। ऐसा इस वजह से होता है क्योंकि रक्त कोशिकाओं के माध्यम से चलना बंद कर देता है।

यह प्रक्रिया सभी लोगों के लिए समान है, लेकिन गहरे रंग की त्वचा वाले लोगों पर यह तुरंत नहीं दिखाई नहीं देती है। इस बीच, शरीर ठंडा हो जाता है। तापमान लगभग 1.5 °F (0.84 °C) प्रति घंटे कम हो जाता है।

मृत्यु के बाद इस तरह के परिवर्तन लगभग अनंत हैं। मृत्‍यु के बाद जब दिल काम करना बंद कर देता है। रक्त पंप नहीं करता, तो भारी लाल रक्त कोशिकाएं गुरुत्वाकर्षण की क्रिया से सीरम के माध्यम से डूब जाती हैं। इस प्रक्रिया को लिवर मोर्टिस कहते हैं, जो 20-30 मिनट के बाद शुरू हो जाता है।

मृत्यु के 2 घंटे बाद क्या होता है?

मृत्यु के 2 घंटे बाद तक मानव आंखों द्वारा देखा जा सकता है। इससे जिससे त्वचा की बैंगनी लाल मलिनकिरण हो जाती है।

वहीं मृत्यु के बाद तीसरे घंटे से शरीर की कोशिकाओं के भीतर होने वाले रासायनिक परिवर्तन से सभी मांसपेशियां कठोर होने लगती हैं, जिसे रिगर मोर्टिस कहते है। इसे मृत्यु का तीसरा चरण कहा जाता है।

इससे शव के हाथ-पैर अकड़ने लगते है। सबसे पहले प्रभावित होने वाली मांसपेशियों में पलकें, जबड़े और गर्दन शामिल हैं। इसके बाद चेहरे और छाती, पेट, हाथ और पैर प्रभावित होते हैं।

रिगर मोर्टिस क्रिया के कारण शरीर की लगभग सभी मांसपेशियां 12 घंटे के अंदर कठोर हो जाती हैं।

इस बिंदु पर, मृतक के अंगों को हिलाना-डुलाना मुश्किल हो जाता है।इस स्थिति में घुटने और कोहनी थोड़े लचीले हो सकते हैं, वहीं हाथ और पैर की उंगलियां असामान्य रूप से टेढ़ी हो सकती हैं।

सेल्स और भीतरी टिश्यू के भीतर निरंतर रासायनिक परिवर्तनों के कारण मांसपेशियां पूरी तरह से ढीली हो जाती हैं। इस प्रक्रिया को सेकंड्री फ्लेसीडिटी के रूप में जाना जाता है।

इस बिंदु पर शरीर की त्वचा सिकुड़ने लगती है। इस स्थिति में सबसे पहले पैर की उंगलियां प्रभावित होना शुरू होती हैं। 48 घंटे के भीतर चेहरे तक का हिस्सा प्रभावित होता है। इसके बाद शरीर गलने लगता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.