अब मंकीपॉक्स हो रहा है जानलेवा, प्राइवेट पार्ट को लेकर सामने आ रहा है नया लक्षण

जहां कोरोना का खतरा कम होता दिख रहा है, वहीं एक नई समस्या फैलती जा रही है. भारत में भी अब मंकीपॉक्स के मरीज पाए गए हैं। ब्रिटेन में एक बार फिर मंकीपॉक्स के मामले बढ़ने के साथ ही वैज्ञानिक इस वायरस का एक नया लक्षण बता रहे हैं।

आंकड़ों के मुताबिक ब्रिटेन में 28 जुलाई तक 2,469 मामले सामने आ चुके हैं। अब मंकीपॉक्स ने लोगों को मारना शुरू कर दिया है, जो चिंता का विषय है।

जबकि मंकीपॉक्स के मामले बढ़ रहे हैं, ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि वायरस के जोखिम वाले लोगों में सामान्य लक्षण नहीं दिखते हैं।

मंकीपॉक्स के मरीजों में कुछ नए लक्षण जैसे मलाशय में दर्द और प्राइवेट पार्ट में सूजन देखने को मिल रही है ये लक्षण मुख्य रूप से मध्य और पश्चिम अफ्रीका में वायरस के पिछले प्रकोपों ​​​​में नहीं देखे गए हैं।

अध्ययन के लेखकों ने कहा कि नए निष्कर्ष समलैंगिक, उभयलिंगी और अन्य पुरुषों के बीच मंकीपॉक्स के सामुदायिक संचरण की पुष्टि करते हैं जो वायरस प्रभावित देशों में पुरुषों के साथ यौन संबंध रखते हैं। 

  • दक्षिण अमेरिका में वायरस से पहली मौत :

दक्षिण अमेरिका में भी मंकीपॉक्स से पहली मौत की सूचना मिली थी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि ब्राजील के एक व्यक्ति की संक्रमण से मौत हो गई है।

41 वर्षीय व्यक्ति को गुरुवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके बाद ब्रिटेन में भी इस वायरस का दूसरा शिकार सामने आया है। 

मंकीपॉक्स से ब्राजील में एक और ब्रिटेन में दो लोगों की मौत हो चुकी है। स्पेन के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक अब तक 4 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। 

इसमें 3500 पुरुष शामिल हैं जबकि महिलाओं की संख्या 64 है। यूरोपीय संघ में, 5300 लोगों को मंकीपॉक्स का टीका लगाया गया है। 

Leave A Reply

Your email address will not be published.