उबर-ओला की मनमानियों पर लगेगा अंकुश, इस राज्य में शुरू होगी अफोर्डेबल ई-कैब सर्विस

देश में अब ऑनलाइन कैब सर्विस देने वाली ऊबर और ओला की मनमानियों के दिन लदने वाले हैं।

केरल सरकार ने इन कंपनियों की मनमानी पर अंकुश लगाने के लिए राज्य में नई अफोर्डेबल ई-कैब सर्विस शुरू करने की घोषणा की है।

देश में किसी राज्य सरकार की ओर से शुरू की जाने वाली यह पहली ऑन लाइन कैब सर्विस होगी। आइए जानते हैं कि इस कैब सर्विस की क्या खासियतें होंगी।

‘केरल सवारी’ होगा कैब सर्विस का नाम

केरल के शिक्षा व श्रम मंत्री वी। सिवनकुट्टी (V Sivankutty) ने इस सर्विस के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि इस सर्विस का नाम केरल सवारी (Kerala Savari) होगा।

इस ऑनलाइन कैब सर्विस से राज्य में चल रहे ऑटो रिक्शा और टैक्सियों को जोड़ा जाएगा।

इस सरकारी कैब सर्विस का मकसद पब्लिक को अफोर्डेबल रेट्स पर सुरक्षित और विवाद मुक्त यात्रा सेवा मुहैया करवाना है। यह कैब सर्विस केरल श्रम विभाग की ओर से शुरू की जा रही है।

देश में इस तरह की पहली सरकारी सेवा

वी शिवनकुट्टी (V Sivankutty) ने कहा, ‘देश में पहली बार कोई राज्य सरकार इस तरह की ऑनलाइन कैब सर्विस शुरू करने जा रही है।

आम जनता को मल्टीनेशनल कंपनियों की मनमानी से राहत दिलाने के लिए सरकार ने सोच-विचार के बाद इस सेक्टर में प्रवेश करने का फैसला किया है।

उन्होंने बताया कि इस ऑनलाइन कैब सेवा के रेट्स जल्द ही जारी कर दिए जाएंगे। उस रेट पर लोगों को केवल 8 पर्सेंट सर्विस चार्ज देना होगा। इस प्रकार यह सेवा ओला और ऊबर की तुलना में लोगों को काफी सस्ती पड़ेगी।’

महिलाओं और बच्चों के लिए सुरक्षित ऐप

मंत्री ने कहा, ‘केरल सवारी (Kerala Savari) ऐप आम लोगों विशेषकर महिलाओं और बच्चों के लिए काफी सुरक्षित होगा। यह ऐप इस प्रकार से डिजाइन किया गया है कि एक साथ कई जरूरतों को पूरा करता है।

इस ऐप को ऑपरेट करना बहुत आसान है। इसमें सुरक्षा के लिए खास फीचर जोड़े गए हैं। ऐप में एक पैनिक बटन सिस्टम बनाया गया है, जिसे कार दुर्घटना या अन्य कोई खतरा होने पर क्लिक किया जा सकता है।’

18 अगस्त को लॉन्च होगी ‘केरल सवारी’

उन्होंने बताया कि देश की इस पहली सरकारी ऑनलाइन कैब सर्विस (Kerala govt Online Cab Service) के लिए राज्य के मोटर वर्कर्स वेलफेयर बोर्ड, योजना बोर्ड, कानूनी माप विज्ञान, परिवहन विभाग, आईटी और पुलिस विभागों का सहयोग लिया गया है।

इसके साथ ही पलक्कड जिले के एक सरकारी संस्थान ने इस सेवा के लिए तकनीकी सहायता प्रदान की है। मंत्री ने बताया कि इस सेवा का शुभारंभ 18 अगस्त को मलयालम महीना चिंगम की शुरुआत होने पर कनकक्कुन्नू पैलेस में लॉन्च किया जाएगा। 

Leave A Reply

Your email address will not be published.